Class 8 Fort Night Lesson Plan in Hindi

Class 8 Fort Night Lesson Plan in Hindi

संक्षिप्त विवरण (Brief Description)

Sr. No.HeadingsDetails
1पाठ योजना प्रकार (Lesson Plan Type)पखवाड़ा पाठ योजना (Fort Night Lesson Plan)
2विषय (Subject) हिंदी (Hindi)
3उपविषय (Sub-Subject)गद्य (Gadya), पद्य (Padya), व्याकरण (Grammar)
4प्रकरण (Topic)
5कक्षा (Class)8th
6समयावधि (Time Duration)
7उपयोगी (Useful for)B.ed, Deled, BSTC, BTC, Nios Deled

नमस्कार दोस्तों अगर आप इस बात को लेकर परेशान हो कि पखवाड़ा पाठ योजना कैसे बनाये (Fort Night Lesson Plan Kaise Banaye) तो अब आपको परेशान होने की आवश्यकता नहीं है | आज हमने कक्षा 8 (Class 8) की हिंदी विषय की पखवाडा पाठ योजना (Fort Night Lesson Plan) शेयर की है, इसकी सहायता से आप अन्य विषय और अन्य कक्षाओ हेतु भी पखवाडा पाठ योजना (Fort Night Lesson Plan) बना सकते है | इसे आप B.ed, Deled, BSTC, BTC आदि के लिए उपयोग में ले सकते है |

 

पखवाडा पाठ योजना (Fort Night Lesson Plan) – 01

विद्यालय का नाम:-

सत्र – 2020-21                   विषय – हिन्दी                     कक्षा  – आठवीं                     वर्ग __

पखवाड़े के अंतर्गत निर्धारित पाठ्यक्रम दिनांक 01 जुलाई, 2020 से दिनांक 15 जुलाई, 2020 तक

…………………………………………………………………………………………………………………………

पाठ एवं विषय-वस्तु :

दूर्वा (भाग-३) गुड़िया (कविता), दो गौरेया (कहानी)। व्याकरण – स्वर और व्यंजन, श्रोत के आधार पर शब्दों के भेद, ‘र’ के विभिन्न रूप, नुक्ता ।

 

शैक्षणिक उद्देश्य :

छात्र-छात्राओं को साहित्य की विभिन्न विधाओं कविता और कहानी की बारीकियों से परिचित कराना। बाल-कविता लिखने की ओर प्रेरित करना। उनमें मानवता, सामाजिकता का विकास करना और जीवन तथा दुनियादारी की समझ पैदा करना। व्याकरण का समुचित ज्ञान कराना। रचनात्मक सोच, कलात्मकता, सृजनात्मकता एवं कल्पनाशीलता के बल पर प्रभावशाली लेखन कला एवं सम्यक भाषा-ज्ञान का विकास करना।

 

शिक्षण हेतु सहायक सामग्री :

चॉक, डस्टर, पाठ्य-पुस्तकें, पोस्टर, पीपीटी, वीडियो क्लिप आदि ।

 

अभिनव शिक्षण युक्तियों का प्रयोग :

बच्चों से किसी भी आम दैनिक प्रयोग की वस्तु पर कक्षा में ही कविता लिखवाना। छात्र-छात्राओं से कक्षा में वार्तालाप के दौरान होने वाली अशुद्धियों को दूर करना। अपने ही घर में घटित किसी मज़ेदार घटना का वर्णन करवाना।

 

प्रयुक्त होने वाले क्रिया-कलाप एवं परियोजनाएँ :

विभिन्न प्रकार की गुड़िया के चित्र बनवाना तथा उनका संग्रह करवाना। बच्चों से कक्षा में ही कहानी सुनना। व्याकरण के अभ्यास-कार्य मौखिक तथा लिखित रूप से करवाना।

 

प्रदत्त कार्य / गृह कार्य :

“मेरा गुड्डा / गुड़िया” विषय पर अनुच्छेद लिखना। अपनी किसी प्यारी चीज़ का वर्णन करते हुए अपने मित्र को पत्र लिखना। व्याकरण से दिए गए अभ्यास-कार्य पूरे कीजिए। हर एक पठित पाठ से तीन-तीन अतिरिक्त प्रश्नोत्तर लिखिए। अपने दादा-दादी / नाना-नानी से सुनी हुई कोई एक कहानी लिखिए।

 

अपेक्षित व्यावहारिक परिणाम :

छात्र-छात्राएँ साहित्य की विभिन्न विधाओं कविता और कहानी की बारीकियों से परिचित हुए होंगे। बाल-कविता लिखने की ओर प्रेरित हुए होंगे। उनमें मानवता, सामाजिकता का विकास करना और जीवन तथा दुनियादारी की समझ पैदा हुई होगी। व्याकरण का समुचित ज्ञान प्राप्त किया होगा। रचनात्मक सोच, कलात्मकता, सृजनात्मकता एवं कल्पनाशीलता के बल पर प्रभावशाली लेखन कला एवं सम्यक भाषा-ज्ञान का विकास हुआ होगा।

 

निर्धारित पाठ्यक्रम पूर्ण करने हेतु मूल्यांकन विधियाँ :

बोध प्रश्न, अभ्यास प्रश्न, कक्षा – कार्य, इकाई परीक्षा, कक्षा परीक्षा, प्रदत्त कार्य, गृह कार्य आदि।

 

पखवाड़े में निर्धारित पाठ्यक्रम पूर्ण / अपूर्ण, यदि अपूर्ण तो कारण : पूर्ण ।

 

अगले पखवाड़े में अपूर्ण पाठ्यक्रम पूर्ण करने हेतु आवश्यक कदम / योजना : अप्रयोजनीय।

 

विषय शिक्षक के हस्ताक्षर                                                                     प्राचार्य

 
पखवाडा पाठ योजना (Fort Night Lesson Plan) – 02

विद्यालय का नाम:-

सत्र – 2020-21                   विषय – हिन्दी                     कक्षा  – आठवीं                     वर्ग __

पखवाड़े के अंतर्गत निर्धारित पाठ्यक्रम दिनांक 16 जुलाई, 2020 से दिनांक 31 जुलाई, 2020 तक

……………………………………………………………………………………………………………………………

पाठ एवं विषय-वस्तु :

  • दूर्वा (भाग-३) – चिट्ठियों में यूरोप (पत्र), ओस (कविता) ।
  • व्याकरण – संज्ञा, लिंग, विलोम, पर्यायवाची, वचन, पत्र-लेखन । अपठित गद्यांश तथा पद्यांश आदि ।

 

  • शैक्षणिक उद्देश्य : छात्र-छात्राओं को साहित्य की विभिन्न विधाओं कविता और पत्र-साहित्य की बारीकियों से परिचित कराना। बाल-कविता लिखने की ओर प्रेरित करना। उनमें मानवता, सामाजिकता का विकास करना और जीवन तथा दुनियादारी की समझ पैदा करना। व्याकरण का समुचित ज्ञान कराना। रचनात्मक सोच, कलात्मकता, सृजनात्मकता एवं कल्पनाशीलता के बल पर प्रभावशाली लेखन कला एवं सम्यक भाषा-ज्ञान का विकास करना।

 

  • शिक्षण हेतु सहायक सामग्री : चॉक, डस्टर, पाठ्य-पुस्तकें, पोस्टर, पीपीटी, वीडियो क्लिप आदि ।

 

  • अभिनव शिक्षण युक्तियों का प्रयोग : प्रकृति पर आधारित कविताओं का संग्रह करवाना। छात्र-छात्राओं से कक्षा में वार्तालाप के दौरान होने वाली अशुद्धियों को दूर करना। अपनी किसी यात्रा का वर्णन करवाना।

 

  • प्रयुक्त होने वाले क्रिया-कलाप एवं परियोजनाएँ : बच्चों से प्रकृति संबंधित किसी भी विषय पर कक्षा में ही कविता लिखवाना। पाठों का उच्च स्वर में पठन करवाना। व्याकरण के अभ्यास-कार्य मौखिक तथा लिखित रूप से करवाना।

 

  • प्रदत्त कार्य / गृह कार्य : प्रकृति विषयक विषय पर अनुच्छेद लिखना। अपनी किसी यात्रा का वर्णन करते हुए अपने मित्र को पत्र लिखना। व्याकरण से दिए गए अभ्यास-कार्य पूरे कीजिए। हर एक पठित पाठ से तीन-तीन अतिरिक्त प्रश्नोत्तर लिखिए।

 

  • अपेक्षित व्यावहारिक परिणाम : छात्र-छात्राएँ साहित्य की विभिन्न विधाओं कविता और कहानी की बारीकियों से परिचित हुए होंगे। बाल-कविता लिखने की ओर प्रेरित हुए होंगे। उनमें मानवता, सामाजिकता का विकास करना और जीवन तथा दुनियादारी की समझ पैदा हुई होगी। व्याकरण का समुचित ज्ञान प्राप्त किया होगा। रचनात्मक सोच, कलात्मकता, सृजनात्मकता एवं कल्पनाशीलता के बल पर प्रभावशाली लेखन कला एवं सम्यक भाषा-ज्ञान का विकास हुआ होगा।

 

  • निर्धारित पाठ्यक्रम पूर्ण करने हेतु मूल्यांकन विधियाँ : बोध प्रश्न, अभ्यास प्रश्न, कक्षा – कार्य, इकाई परीक्षा, कक्षा परीक्षा, प्रदत्त कार्य, गृह कार्य आदि।

 

  • पखवाड़े में निर्धारित पाठ्यक्रम पूर्ण / अपूर्ण, यदि अपूर्ण तो कारण : पूर्ण ।

 

  • अगले पखवाड़े में अपूर्ण पाठ्यक्रम पूर्ण करने हेतु आवश्यक कदम / योजना : अप्रयोजनीय।

 

विषय शिक्षक के हस्ताक्षर                                                                      प्राचार्य

 

पखवाडा पाठ योजना (Fort Night Lesson Plan) – 03

विद्यालय का नाम:-

सत्र – 2018-19                   विषय – हिन्दी                     कक्षा  – आठवीं                     वर्ग __

पखवाड़े के अंतर्गत निर्धारित पाठ्यक्रम दिनांक 01 अगस्त, 2018 से दिनांक 15 अगस्त, 2018 तक

……………………………………………………………………………………………………………………………

पाठ एवं विषय-वस्तु :

  • दूर्वा (भाग-३) उठ किसान ओ (कविता), नाटक में नाटक (एकांकी)।
  • व्याकरण एवं रचना – अपठित गद्यांश ।

 

  • शैक्षणिक उद्देश्य : छात्र-छात्राओं को साहित्य की विभिन्न विधाओं कविता, जीवनी, लोककथा आदि की बारीकियों से परिचित कराना। बाल-कविता लिखने की ओर प्रेरित करना। उनमें मानवता, सामाजिकता का विकास करना और जीवन तथा दुनियादारी की समझ पैदा करना। व्याकरण का समुचित ज्ञान कराना। रचनात्मक सोच, कलात्मकता, सृजनात्मकता एवं कल्पनाशीलता के बल पर प्रभावशाली लेखन कला एवं सम्यक भाषा-ज्ञान का विकास करना।

 

  • शिक्षण हेतु सहायक सामग्री : चॉक, डस्टर, पाठ्य-पुस्तकें, पोस्टर, पीपीटी, वीडियो क्लिप आदि ।

 

  • अभिनव शिक्षण युक्तियों का प्रयोग : बच्चों से बादलों पर कक्षा में ही कविता लिखवाना। छात्र-छात्राओं से कक्षा में वार्तालाप के दौरान होने वाली अशुद्धियों को दूर करना। किसी विषय पर कोई एक अनुच्छेद लिखवाकर उससे संबंधित प्रश्नोत्तर लिखना।

 

  • प्रयुक्त होने वाले क्रिया-कलाप एवं परियोजनाएँ : पठित एकांकी का कक्षा में ही मंचन करवाना। बच्चों से कक्षा में ही कविता लिखवाना। अपठित गद्यांश के अभ्यास-कार्य लिखित रूप से करवाना।

 

  • प्रदत्त कार्य / गृह कार्य : ‘ भारतीय किसान ’ विषय पर अनुच्छेद लिखना। किसी नाटक या एकांकी में किए गए अभिनय का वर्णन करते हुए अपने मित्र को पत्र लिखना। दिया गया अभ्यास-कार्य (अपठित गद्यांश) पूरा कीजिए। हर एक पठित पाठ से तीन-तीन अतिरिक्त प्रश्नोत्तर लिखिए।

 

  • अपेक्षित व्यावहारिक परिणाम : छात्र-छात्राएँ साहित्य की विभिन्न विधाओं कविता, जीवनी, लोककथा आदि की बारीकियों से परिचित हुए होंगे। बाल-कविता लिखने की ओर प्रेरित हुए होंगे। उनमें मानवता, सामाजिकता का विकास करना और जीवन तथा दुनियादारी की समझ पैदा हुई होगी। व्याकरण का समुचित ज्ञान प्राप्त किया होगा। रचनात्मक सोच, कलात्मकता, सृजनात्मकता एवं कल्पनाशीलता के बल पर प्रभावशाली लेखन कला एवं सम्यक भाषा-ज्ञान का विकास हुआ होगा।

 

  • निर्धारित पाठ्यक्रम पूर्ण करने हेतु मूल्यांकन विधियाँ : बोध प्रश्न, अभ्यास प्रश्न, कक्षा – कार्य, इकाई परीक्षा, कक्षा परीक्षा, प्रदत्त कार्य, गृह कार्य आदि।

 

  • पखवाड़े में निर्धारित पाठ्यक्रम पूर्ण / अपूर्ण, यदि अपूर्ण तो कारण : पूर्ण ।

 

  • अगले पखवाड़े में अपूर्ण पाठ्यक्रम पूर्ण करने हेतु आवश्यक कदम / योजना : अप्रयोजनीय।

 

विषय शिक्षक के हस्ताक्षर                                                             प्राचार्य

 

 

 

पखवाडा पाठ योजना (Fort Night Lesson Plan) – 04

विद्यालय का नाम:-

सत्र – 2020-21                   विषय – हिन्दी                     कक्षा  – आठवीं                     वर्ग __

पखवाड़े के अंतर्गत निर्धारित पाठ्यक्रम दिनांक 15 अगस्त, 2020 से दिनांक 31 अगस्त, 2020 तक

………………………………………………………………………………………………………………………

पाठ एवं विषय-वस्तु :

  • दूर्वा (भाग-३) सागर यात्रा (लेख)।
  • व्याकरण एवं रचना – अपठित पद्यांश ।

 

  • शैक्षणिक उद्देश्य : छात्र-छात्राओं को साहित्य की विधा लेख / यात्रा वृत्तांत की बारीकियों से परिचित कराना। यात्रा वृत्तांत लिखने को प्रेरित करना। उनमें मानवता, सामाजिकता का विकास करना और जीवन तथा दुनियादारी की समझ पैदा करना। पठित पद्यांश को हल करने का समुचित ज्ञान कराना। रचनात्मक सोच, कलात्मकता, सृजनात्मकता एवं कल्पनाशीलता के बल पर प्रभावशाली लेखन कला एवं सम्यक भाषा-ज्ञान का विकास करना।

 

  • शिक्षण हेतु सहायक सामग्री : चॉक, डस्टर, पाठ्य-पुस्तकें, पोस्टर, पीपीटी, वीडियो क्लिप आदि ।

 

  • अभिनव शिक्षण युक्तियों का प्रयोग : बच्चों से अपनी यात्रा का वृत्तांत कक्षा में ही लिखवाना। छात्र-छात्राओं से कक्षा में वार्तालाप के दौरान होने वाली अशुद्धियों को दूर करना। अपठित पद्यांश के अंतर्गत किसी काव्य-खण्ड से संबंधित प्रश्नोत्तर लिखना।

 

  • प्रयुक्त होने वाले क्रिया-कलाप एवं परियोजनाएँ : पठित पाठ के मौलिक वीडियो / चलचित्र का प्रदर्शन। बच्चों से कक्षा में किसी यात्रा का वर्णन लिखवाना। अपठित पद्यांश के अभ्यास-कार्य लिखित रूप से करवाना।

 

  • प्रदत्त कार्य / गृह कार्य : ‘ मेरी पहली बस/रेल या हवाई यात्रा ’ विषय पर अनुच्छेद लिखना। अपनी परीक्षा-प्रणाली का वर्णन करते हुए अपने मित्र को पत्र लिखना। दिया गया अभ्यास-कार्य (अपठित पद्यांश) पूरा कीजिए। पठित पाठ से तीन अतिरिक्त प्रश्नोत्तर लिखिए।

 

  • अपेक्षित व्यावहारिक परिणाम : छात्र-छात्राएँ साहित्य की विधा लेख / यात्रा वृत्तांत की बारीकियों से परिचित हुए होंगे। यात्रा वृत्तांत लिखने की ओर प्रेरित हुए होंगे। उनमें मानवता, सामाजिकता का विकास करना और जीवन तथा दुनियादारी की समझ पैदा हुई होगी। पठित पद्यांश हल करने का समुचित ज्ञान प्राप्त किया होगा। रचनात्मक सोच, कलात्मकता, सृजनात्मकता एवं कल्पनाशीलता के बल पर प्रभावशाली लेखन कला एवं सम्यक भाषा-ज्ञान का विकास हुआ होगा।

 

  • निर्धारित पाठ्यक्रम पूर्ण करने हेतु मूल्यांकन विधियाँ : बोध प्रश्न, अभ्यास प्रश्न, कक्षा – कार्य, इकाई परीक्षा, कक्षा परीक्षा, प्रदत्त कार्य, गृह कार्य आदि।

 

  • पखवाड़े में निर्धारित पाठ्यक्रम पूर्ण / अपूर्ण, यदि अपूर्ण तो कारण : पूर्ण ।

 

  • अगले पखवाड़े में अपूर्ण पाठ्यक्रम पूर्ण करने हेतु आवश्यक कदम / योजना : अप्रयोजनीय।

 

विषय शिक्षक के हस्ताक्षर                                                                        प्राचार्य

 

 

पखवाडा पाठ योजना (Fort Night Lesson Plan) – 05

विद्यालय का नाम:-

सत्र – 2020-21                  विषय – हिन्दी                     कक्षा  – आठवीं                     वर्ग __

पखवाड़े के अंतर्गत निर्धारित पाठ्यक्रम दिनांक 01 सितंबर, 2020 से दिनांक 15 सितंबर, 2020 तक

………………………………………………………………………………………………………………………

  • पाठ एवं विषय-वस्तु :

दूर्वा (भाग-३)- सस्ते का चक्कर(एकांकी), एक खिलाड़ी की कुछ यादें (संस्मरण), बस की सैर (कहानी)।

 

  • शैक्षणिक उद्देश्य : छात्र-छात्राओं को साहित्य की विभिन्न विधाओं एकांकी, संस्मरण तथा कहानी की बारीकियों से परिचित कराना। बाल-एकांकी लिखने की ओर प्रेरित करना। उनमें मानवता, देश-प्रेम तथा सामाजिकता का विकास करना और जीवन तथा दुनियादारी की समझ पैदा करना। भाषा प्रयोग एवं शब्द-भंडार की बारीकियों से अवगत करना।

 

  • शिक्षण हेतु सहायक सामग्री : चॉक, डस्टर, पाठ्य-पुस्तकें, पोस्टर, पीपीटी, वीडियो क्लिप आदि ।

 

  • अभिनव शिक्षण युक्तियों का प्रयोग : बच्चों से कक्षा में ही एकांकी लिखवाना। छात्र-छात्राओं से कक्षा में वार्तालाप के दौरान होने वाली अशुद्धियों को दूर करना। कोई कहानी सुनाने को प्रेरित करना।

 

  • प्रयुक्त होने वाले क्रिया-कलाप एवं परियोजनाएँ : पठित एकांकी का कक्षा में ही मंचन करवाना। बच्चों से कक्षा में ही अपने जीवन का कोई संस्मरण लिखवाना।

 

  • प्रदत्त कार्य / गृह कार्य : ‘ मेरा प्रिय खेल ’ विषय पर अनुच्छेद लिखना। किसी नाटक या एकांकी में किए गए अभिनय का वर्णन करते हुए अपने मित्र को पत्र लिखना। अपनी पहली बस यात्रा के बारे में लिखिए। हर एक पठित पाठ से तीन-तीन अतिरिक्त प्रश्नोत्तर लिखिए।

 

  • अपेक्षित व्यावहारिक परिणाम : छात्र-छात्राएँ साहित्य की विभिन्न विधाओं एकांकी, कहानी तथा संस्मरण आदि की बारीकियों से परिचित हुए होंगे। बाल-एकांकी लिखने की ओर प्रेरित हुए होंगे। उनमें मानवता, देश-प्रेम, सामाजिकता का विकास करना और जीवन तथा दुनियादारी की समझ पैदा हुई होगी। व्याकरण का समुचित ज्ञान प्राप्त किया होगा। भाषा प्रयोग एवं शब्द-भंडार की बारीकियों से अवगत हुए होंगे।

 

  • निर्धारित पाठ्यक्रम पूर्ण करने हेतु मूल्यांकन विधियाँ : बोध प्रश्न, अभ्यास प्रश्न, कक्षा – कार्य, इकाई परीक्षा, कक्षा परीक्षा, प्रदत्त कार्य, गृह कार्य आदि।

 

  • पखवाड़े में निर्धारित पाठ्यक्रम पूर्ण / अपूर्ण, यदि अपूर्ण तो कारण : पूर्ण ।

 

  • अगले पखवाड़े में अपूर्ण पाठ्यक्रम पूर्ण करने हेतु आवश्यक कदम / योजना : अप्रयोजनीय।

 

विषय शिक्षक के हस्ताक्षर                                                                                                प्राचार्य

 

 

पखवाडा पाठ योजना (Fort Night Lesson Plan) – 06

विद्यालय का नाम:-

सत्र – 2020-21                  विषय – हिन्दी                     कक्षा  – आठवीं                     वर्ग __

पखवाड़े के अंतर्गत निर्धारित पाठ्यक्रम दिनांक 15 सितंबर, 2020 से दिनांक 30 सितंबर, 2020 तक

………………………………………………………………………………………………………………………

पाठ एवं विषय-वस्तु :

  • व्याकरण एवं रचना – उपसर्ग, प्रत्यय, मुहावरे, अनुच्छेद लेखन ।

 

  • शैक्षणिक उद्देश्य : व्याकरण का समुचित ज्ञान कराना ।नुच्छेद लेखन का समुचित ज्ञान कराना। रचनात्मक सोच, कलात्मकता, सृजनात्मकता एवं कल्पनाशीलता के बल पर प्रभावशाली लेखन कला एवं सम्यक भाषा-ज्ञान का विकास करना।

 

  • शिक्षण हेतु सहायक सामग्री : चॉक, डस्टर, पाठ्य-पुस्तकें, पोस्टर, पीपीटी आदि ।

 

  • अभिनव शिक्षण युक्तियों का प्रयोग : छात्र-छात्राओं से कक्षा में वार्तालाप के दौरान उनके द्वारा प्रयुक्त शब्दों से उपसर्ग. प्रत्यय आदि का अभ्यास करवाना। अनुच्छेद लेखन का मौखिक वाचन करवाना।

 

  • प्रयुक्त होने वाले क्रिया-कलाप एवं परियोजनाएँ : उपसर्ग और प्रत्यय का लिखित अभ्यास करवाना। बच्चों से कक्षा में मुहावरों के प्रयोग समझाना। अनुच्छेद लेखन के अभ्यास-कार्य लिखित रूप से करवाना।

 

  • प्रदत्त कार्य / गृह कार्य : ‘ मेरी पहली बस/रेल या हवाई यात्रा ’ विषय पर अनुच्छेद लिखना। अपनी परीक्षा-प्रणाली का वर्णन करते हुए अपने मित्र को पत्र लिखना। दिया गया अभ्यास-कार्य (अपठित पद्यांश) पूरा कीजिए। पठित पाठ से तीन अतिरिक्त प्रश्नोत्तर लिखिए।

 

  • अपेक्षित व्यावहारिक परिणाम : व्याकरण का समुचित ज्ञान प्राप्त किया होगा ।नुच्छेद लेखन का समुचित ज्ञान हुआ होगा। रचनात्मक सोच, कलात्मकता, सृजनात्मकता एवं कल्पनाशीलता के बल पर प्रभावशाली लेखन कला एवं सम्यक भाषा-ज्ञान का विकास हुआ होगा।

 

  • निर्धारित पाठ्यक्रम पूर्ण करने हेतु मूल्यांकन विधियाँ : बोध प्रश्न, अभ्यास प्रश्न, कक्षा – कार्य, इकाई परीक्षा, कक्षा परीक्षा, प्रदत्त कार्य, गृह कार्य आदि।

 

  • पखवाड़े में निर्धारित पाठ्यक्रम पूर्ण / अपूर्ण, यदि अपूर्ण तो कारण : पूर्ण ।

 

  • अगले पखवाड़े में अपूर्ण पाठ्यक्रम पूर्ण करने हेतु आवश्यक कदम / योजना : अप्रयोजनीय।

 

विषय शिक्षक के हस्ताक्षर                                                                                                प्राचार्य

 

 

पखवाडा पाठ योजना (Fort Night Lesson Plan) – 07

विद्यालय का नाम:-

सत्र – 2020-21                  विषय – हिन्दी                     कक्षा  – आठवीं                     वर्ग __

पखवाड़े के अंतर्गत निर्धारित पाठ्यक्रम दिनांक 4 नवंबर, 2020 से दिनांक 15 नवंबर, 2020 तक

………………………………………………………………………………………………………………………

पाठ एवं विषय-वस्तु :

  • दूर्वा (भाग-३) मारिया नेज्यैशी (भेंटवार्त्ता), अन्याय के खिलाफ़ (स्वत्रंतता की कथा), आषाढ़ का पहला दिन (कविता)।
  • व्याकरण एवं रचना – अनेकार्थी शब्द, विराम चिह्नों का प्रयोग, वाक्यांश के लिए एक शब्द, श्रुत लेख ।

 

  • शैक्षणिक उद्देश्य : छात्र-छात्राओं को साहित्य की विधा लेख / यात्रा वृत्तांत की बारीकियों से परिचित कराना। यात्रा वृत्तांत लिखने को प्रेरित करना। उनमें मानवता, सामाजिकता का विकास करना और जीवन तथा दुनियादारी की समझ पैदा करना। पठित पद्यांश को हल करने का समुचित ज्ञान कराना। रचनात्मक सोच, कलात्मकता, सृजनात्मकता एवं कल्पनाशीलता के बल पर प्रभावशाली लेखन कला एवं सम्यक भाषा-ज्ञान का विकास करना।

 

  • शिक्षण हेतु सहायक सामग्री : चॉक, डस्टर, पाठ्य-पुस्तकें, पोस्टर, पीपीटी, वीडियो क्लिप आदि ।

 

  • अभिनव शिक्षण युक्तियों का प्रयोग : बच्चों से अपनी यात्रा का वृत्तांत कक्षा में ही लिखवाना। छात्र-छात्राओं से कक्षा में वार्तालाप के दौरान होने वाली अशुद्धियों को दूर करना। अपठित पद्यांश के अंतर्गत किसी काव्य-खण्ड से संबंधित प्रश्नोत्तर लिखना।

 

  • प्रयुक्त होने वाले क्रिया-कलाप एवं परियोजनाएँ : पठित पाठ के मौलिक वीडियो / चलचित्र का प्रदर्शन। बच्चों से कक्षा में किसी यात्रा का वर्णन लिखवाना। अपठित पद्यांश के अभ्यास-कार्य लिखित रूप से करवाना।

 

  • प्रदत्त कार्य / गृह कार्य : ‘ मेरी पहली बस/रेल या हवाई यात्रा ’ विषय पर अनुच्छेद लिखना। अपनी परीक्षा-प्रणाली का वर्णन करते हुए अपने मित्र को पत्र लिखना। दिया गया अभ्यास-कार्य (अपठित पद्यांश) पूरा कीजिए। पठित पाठ से तीन अतिरिक्त प्रश्नोत्तर लिखिए।

 

  • अपेक्षित व्यावहारिक परिणाम : छात्र-छात्राएँ साहित्य की विधा लेख / यात्रा वृत्तांत की बारीकियों से परिचित हुए होंगे। यात्रा वृत्तांत लिखने की ओर प्रेरित हुए होंगे। उनमें मानवता, सामाजिकता का विकास करना और जीवन तथा दुनियादारी की समझ पैदा हुई होगी। पठित पद्यांश हल करने का समुचित ज्ञान प्राप्त किया होगा। रचनात्मक सोच, कलात्मकता, सृजनात्मकता एवं कल्पनाशीलता के बल पर प्रभावशाली लेखन कला एवं सम्यक भाषा-ज्ञान का विकास हुआ होगा।

 

  • निर्धारित पाठ्यक्रम पूर्ण करने हेतु मूल्यांकन विधियाँ : बोध प्रश्न, अभ्यास प्रश्न, कक्षा – कार्य, इकाई परीक्षा, कक्षा परीक्षा, प्रदत्त कार्य, गृह कार्य आदि।

 

  • पखवाड़े में निर्धारित पाठ्यक्रम पूर्ण / अपूर्ण, यदि अपूर्ण तो कारण : पूर्ण ।

 

  • अगले पखवाड़े में अपूर्ण पाठ्यक्रम पूर्ण करने हेतु आवश्यक कदम / योजना : अप्रयोजनीय।

 

विषय शिक्षक के हस्ताक्षर                                                                                                प्राचार्य

 

 

पखवाडा पाठ योजना (Fort Night Lesson Plan) – 08

विद्यालय का नाम:-

सत्र – 2020-21                विषय – हिन्दी                     कक्षा  – आठवीं                     वर्ग __

पखवाड़े के अंतर्गत निर्धारित पाठ्यक्रम दिनांक 15 नवंबर, 2020 से दिनांक 30 नवंबर, 2020 तक

………………………………………………………………………………………………………………………

पाठ एवं विषय-वस्तु :

  • दूर्वा (भाग-३) मारिया नेज्यैशी (भेटवार्त्ता), अन्याय के खिलाफ़ (स्वत्रंतता की कथा), आषाढ़ का पहला दिन (कविता)।
  • व्याकरण एवं रचना – अनेकार्थी शब्द, विराम चिह्नों का प्रयोग, वाक्यांशों के लिए एक शब्द, श्रुतलेख ।

 

  • शैक्षणिक उद्देश्य : छात्र-छात्राओं को साहित्य की विधा कविता, भेंटवार्त्ता, कहानी की बारीकियों से परिचित कराना। कविता, भेंटवार्त्ता, कहानी लिखने को प्रेरित करना। उनमें मानवता, सामाजिकता का विकास करना और जीवन तथा दुनियादारी की समझ पैदा करना। उनमें देश-भक्ति की भावना का संचार करना। व्याकरण के अंतर्गत अनेकार्थी शब्द, विराम चिह्नों का प्रयोग, वाक्यांशों के लिए एक शब्द का समुचित ज्ञान कराना। रचनात्मक सोच, कलात्मकता, सृजनात्मकता एवं कल्पनाशीलता के बल पर प्रभावशाली लेखन कला एवं सम्यक भाषा-ज्ञान का विकास करना।

 

  • शिक्षण हेतु सहायक सामग्री : चॉक, डस्टर, पाठ्य-पुस्तकें, पोस्टर, पीपीटी, वीडियो क्लिप आदि ।

 

  • अभिनव शिक्षण युक्तियों का प्रयोग : बच्चों से किसी से अपनी भेंतवार्त्ता का वृत्तांत कक्षा में ही सुनना। छात्र-छात्राओं से कक्षा में वार्त्तालाप के दौरान होने वाली अशुद्धियों को दूर करना तथा विराम चिह्नों का सही प्रयोग करवाना। स्वतंत्रता की कहानी सुनना और सुनाना।

 

  • प्रयुक्त होने वाले क्रिया-कलाप एवं परियोजनाएँ : पठित पाठों से संबंधित वीडियो क्लिप्स कक्षा में दिखाना। व्याकरण के अभ्यास-कार्य लिखित रूप से करवाना। कक्षा में ही अपने सहपाठियों से भेंटवार्त्ता का अयोजन करना।

 

  • प्रदत्त कार्य / गृह कार्य : अनेकार्थी शब्द, विराम चिह्नों का प्रयोग, वाक्यांशों के लिए एक शब्द से संबंधित प्रश्नों के उत्तर लिखना। मारिया नेज्यैशी का वर्णन करते हुए अपने मित्र को पत्र लिखना। किसी स्वतंत्रता संग्रामी के बारे में लिखना। पठित पाठ से तीन अतिरिक्त प्रश्नोत्तर लिखिए।

 

  • अपेक्षित व्यावहारिक परिणाम : छात्र-छात्राएँ साहित्य की विधा कविता, भेंटवार्त्ता, कहानी की बारीकियों से परिचित हुए होंगे। कविता, भेंटवार्त्ता, कहानी लिखने की ओर प्रेरित हुए होंगे। उनमें मानवता, सामाजिकता का विकास करना और जीवन तथा दुनियादारी की समझ पैदा हुई होगी। व्याकरण के अंतर्गत अनेकार्थी शब्द, विराम चिह्नों का प्रयोग, वाक्यांशों के लिए एक शब्द का समुचित ज्ञान प्राप्त किया होगा। रचनात्मक सोच, कलात्मकता, सृजनात्मकता एवं कल्पनाशीलता के बल पर प्रभावशाली लेखन कला एवं सम्यक भाषा-ज्ञान का विकास हुआ होगा।

 

  • निर्धारित पाठ्यक्रम पूर्ण करने हेतु मूल्यांकन विधियाँ : बोध प्रश्न, अभ्यास प्रश्न, कक्षा – कार्य, इकाई परीक्षा, कक्षा परीक्षा, प्रदत्त कार्य, गृह कार्य आदि।

 

  • पखवाड़े में निर्धारित पाठ्यक्रम पूर्ण / अपूर्ण, यदि अपूर्ण तो कारण : पूर्ण ।

 

  • अगले पखवाड़े में अपूर्ण पाठ्यक्रम पूर्ण करने हेतु आवश्यक कदम / योजना : अप्रयोजनीय।

 

विषय शिक्षक के हस्ताक्षर                                                                                                प्राचार्य

 

 

पखवाडा पाठ योजना (Fort Night Lesson Plan) – 09

विद्यालय का नाम:-

सत्र – 2020-21                   विषय – हिन्दी                     कक्षा  – आठवीं                     वर्ग __

पखवाड़े के अंतर्गत निर्धारित पाठ्यक्रम दिनांक 1 दिसंबर, 2020 से दिनांक 15 दिसंबर, 2020 तक

……………………………………………………………………………………………………………………………

पाठ एवं विषय-वस्तु :

  • दूर्वा (भाग-३) केशव शंकर पिल्लै (व्यक्तित्त्व), फ़र्श पर (कविता), बूढ़ी अम्मा की बात (लोककथा)।

 

  • शैक्षणिक उद्देश्य : छात्र-छात्राओं को साहित्य की विधा कविता, व्यक्तित्त्व, लोककथा की बारीकियों से परिचित कराना। कविता, व्यक्तित्त्व, लोककथा लिखने को प्रेरित करना। उनमें मानवता, सामाजिकता का विकास करना और जीवन तथा दुनियादारी की समझ पैदा करना। रचनात्मक सोच, कलात्मकता, सृजनात्मकता एवं कल्पनाशीलता के बल पर प्रभावशाली लेखन कला एवं सम्यक भाषा-ज्ञान का विकास करना।

 

  • शिक्षण हेतु सहायक सामग्री : चॉक, डस्टर, पाठ्य-पुस्तकें, पोस्टर, वीडियो क्लिप्स आदि ।

 

  • अभिनव शिक्षण युक्तियों का प्रयोग : किसी समाजसेवी, कलाकार या प्रतिभावान व्यक्तित्व के बारे में कक्षा में बताना। दैनिक जीवन पर आधारित कविताएँ सुनना और सुनाना।

 

  • प्रयुक्त होने वाले क्रिया-कलाप एवं परियोजनाएँ : पठित पाठों से संबंधित वीडियो क्लिप्स कक्षा में दिखाना। विद्यार्थियों से कोई एक लोककथा कक्षा में ही सुनाने को प्रेरित करना। कक्षा में ही सामूहिक रूप से कविता लेखन का अयोजन करना।

 

  • प्रदत्त कार्य / गृह कार्य : कोई एक लोककथा लिखना। केशव शंकर जैसे किसी महान्‍ व्यक्तित्व के बारे में उनका संक्षिप्त जीवन परिचय लिखना। पठित पाठों से तीन अतिरिक्त प्रश्नोत्तर लिखिए।

 

  • अपेक्षित व्यावहारिक परिणाम : छात्र-छात्राएँ साहित्य की विधा कविता, व्यक्तित्त्व, लोककथा की बारीकियों से परिचित हुए होंगे। कविता, व्यक्तित्त्व, लोककथा लिखने की ओर प्रेरित हुए होंगे। उनमें मानवता, सामाजिकता का विकास करना और जीवन तथा दुनियादारी की समझ पैदा हुई होगी। रचनात्मक सोच, कलात्मकता, सृजनात्मकता एवं कल्पनाशीलता के बल पर प्रभावशाली लेखन कला एवं सम्यक भाषा-ज्ञान का विकास हुआ होगा।

 

  • निर्धारित पाठ्यक्रम पूर्ण करने हेतु मूल्यांकन विधियाँ : बोध प्रश्न, अभ्यास प्रश्न, कक्षा – कार्य, इकाई परीक्षा, कक्षा परीक्षा, प्रदत्त कार्य, गृह कार्य आदि।

 

  • पखवाड़े में निर्धारित पाठ्यक्रम पूर्ण / अपूर्ण, यदि अपूर्ण तो कारण : पूर्ण ।

 

  • अगले पखवाड़े में अपूर्ण पाठ्यक्रम पूर्ण करने हेतु आवश्यक कदम / योजना : अप्रयोजनीय।

 

विषय शिक्षक के हस्ताक्षर                                                                                                प्राचार्य

 

 

पखवाडा पाठ योजना (Fort Night Lesson Plan) – 10

विद्यालय का नाम:-

सत्र – 2020-21                 विषय – हिन्दी                     कक्षा  – आठवीं                     वर्ग __

पखवाड़े के अंतर्गत निर्धारित पाठ्यक्रम दिनांक 15 दिसंबर, 2020 से दिनांक 31 दिसंबर, 2020 तक

……………………………………………………………………………………………………………………………

  • पाठ एवं विषय-वस्तु : व्याकरण – सर्वनाम, विशेषण, क्रिया, काल, श्रुति लेख ।

 

  • शैक्षणिक उद्देश्य : छात्र-छात्राओं को व्याकरण का स्मुचित ज्ञान कराना रचनात्मक सोच, कलात्मकता, सृजनात्मकता एवं कल्पनाशीलता के बल पर प्रभावशाली लेखन कला एवं सम्यक भाषा-ज्ञान का विकास करना।

 

  • शिक्षण हेतु सहायक सामग्री : चॉक, डस्टर, पाठ्य-पुस्तकें, पोस्टर, पी.पी.टी. आदि ।

 

  • अभिनव शिक्षण युक्तियों का प्रयोग : किसी समाजसेवी, कलाकार या प्रतिभावान व्यक्तित्व के बारे में कक्षा में बताना। दैनिक जीवन पर आधारित कविताएँ सुनना और सुनाना।

 

  • प्रयुक्त होने वाले क्रिया-कलाप एवं परियोजनाएँ : पठित पाठों से संबंधित वीडियो क्लिप्स कक्षा में दिखाना। विद्यार्थियों से कोई एक लोककथा कक्षा में ही सुनाने को प्रेरित करना। कक्षा में ही सामूहिक रूप से कविता लेखन का अयोजन करना।

 

  • प्रदत्त कार्य / गृह कार्य : कोई एक लोककथा लिखना। केशव शंकर जैसे किसी महान्‍ व्यक्तित्व के बारे में उनका संक्षिप्त जीवन परिचय लिखना। पठित पाठों से तीन अतिरिक्त प्रश्नोत्तर लिखिए।

 

  • अपेक्षित व्यावहारिक परिणाम : छात्र-छात्राएँ साहित्य की विधा कविता, व्यक्तित्त्व, लोककथा की बारीकियों से परिचित हुए होंगे। कविता, व्यक्तित्त्व, लोककथा लिखने की ओर प्रेरित हुए होंगे। उनमें मानवता, सामाजिकता का विकास करना और जीवन तथा दुनियादारी की समझ पैदा हुई होगी। रचनात्मक सोच, कलात्मकता, सृजनात्मकता एवं कल्पनाशीलता के बल पर प्रभावशाली लेखन कला एवं सम्यक भाषा-ज्ञान का विकास हुआ होगा।

 

  • निर्धारित पाठ्यक्रम पूर्ण करने हेतु मूल्यांकन विधियाँ : बोध प्रश्न, अभ्यास प्रश्न, कक्षा – कार्य, इकाई परीक्षा, कक्षा परीक्षा, प्रदत्त कार्य, गृह कार्य आदि।

 

  • पखवाड़े में निर्धारित पाठ्यक्रम पूर्ण / अपूर्ण, यदि अपूर्ण तो कारण : पूर्ण ।

 

  • अगले पखवाड़े में अपूर्ण पाठ्यक्रम पूर्ण करने हेतु आवश्यक कदम / योजना : अप्रयोजनीय।

 

विषय शिक्षक के हस्ताक्षर                                                                                                प्राचार्य

यहाँ आप Lesson Plans, Papers, Notes आदि हमारे साथ टेलीग्राम पर शेयर कर सकते है | इससे आप घर बैठे अन्य लोगों की भी मदद कर सकेंगे |
Share Your File on Telegram
Join Our Telegram Channel

Leave a Comment